यूएई प्रतिनिधिमंडल ने द्वितीय यूएस स्टेट डिपार्टमेंट मिनिस्ट्रियल टू एडवांस रिलीजियस फ्रीडम में भाग लिया


वाशिंगटन, डीसी, 20 जुलाई, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- यूएई सरकार और धार्मिक नेताओं के एक वरिष्ठ प्रतिनिधिमंडल ने हाल ही में दूसरे यूएस स्टेट डिपार्टमेंट मिनिस्ट्रियल टू एडवांस रिलीजियस फ्रीडम में भाग लिया। 16 -18 जुलाई से होने वाले मंत्रिस्तरीय सम्मेलन में प्रतिनिधियों ने मध्य पूर्व क्षेत्र और दुनिया भर में शांति, समावेश और सह-अस्तित्व को बढ़ावा देने के लिए यूएई की प्रतिबद्धता पर प्रकाश डाला। अमीरात फतवा काउंसिल के चेयरमैन शेख अब्दुल्ला बिन बेयाह के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल में राज्यमंत्री जकी नुसेबेह, हेदाया के अध्यक्ष डॉ. अली अल नूमी के साथ ही यूएई के कई धार्मिक नेता, जिनमें मुस्लिम, ईसाई, यहूदी और सिख धर्म के प्रतिनिधि शामिल थे। यूएई के प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने आधिकारिक पैनल चर्चाओं में भाग लिया और दुनिया के कुछ प्रमुख धार्मिक नेताओं के साथ मुलाकात की, जहां उन्होंने पारस्परिक संवाद और सांस्कृतिक समझ को बढ़ावा देने के तरीकों पर चर्चा की। शेख बिन बेयाह ने कहा, "यूएई में पूरी आबादी को धार्मिक स्वतंत्रता दी जाती है और धार्मिक विविधता के स्वागत का जश्न मनाया जाता है। धार्मिक सहिष्णुता हमारे दिलों और हमारे समुदायों में अंतर्निहित है।"

डॉ. अल नूमी ने हेदाया के कार्यकारी निदेशक मकसूद क्रूस सहित विशेषज्ञों के एक पैनल के साथ इंटरफेथ टॉलरेंस पर एक सत्र की सह-अध्यक्षता की। पैनल ने अबू धाबी में आयोजित धार्मिक स्वतंत्रता को आगे बढ़ाने पर फरवरी के क्षेत्रीय सम्मेलन के परिणामों पर चर्चा की। अमेरिका में यूएई के राजदूत यूसेफ अल ओतैबा ने कहा, "यूएई और अमेरिका इंटरफेथ बातचीत को बढ़ावा देने, चरमपंथ का मुकाबला करने और धार्मिक अल्पसंख्यकों की रक्षा करने में भागीदार हैं।"

इस दौरान अमेरिका और दुनिया भर के दर्जनों अन्य देशों के साथ यूएई ने सात "स्टेटमेंट्स ऑफ कंसर्न" पर हस्ताक्षर किए। वाशिंग्टन डीसी का दौरा करते हुए प्रतिनिधिमंडल ने 'द पीस विजिट' की एक विशेष स्क्रीनिंग और चर्चा में भाग लिया, जो फरवरी में अबू धाबी में पोप फ्रांसिस की ऐतिहासिक यात्रा पर एक नई नेशनल ज्योग्राफिक डॉक्यूमेंट्री है। प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने इंटरफेथ बातचीत और वाशिंग्टन में अरब गल्फ स्टेट्स इंस्टीट्यूट द्वारा आयोजित चरमपंथ का मुकाबला करने में सहयोग पर एक गोलमेज सम्मेलन में भाग लिया। इसमें सिख समुदाय और अमेरिकी यहूदी समिति के साथ बैठकें भी हुईं। स्टेट डिपार्टमेंट मिनिस्ट्रियल टू एडवांस रिलीजियस फ्रीडम में भाग लेने के लिए गए यूएई प्रतिनिधिमंडल में शेख जायद ग्रैंड मस्जिद के महानिदेशक डॉ. यूसुफ अलबेदली; अबू धाबी में सेंट एंड्रयू चर्च के पादरी रेवरेंड एंडी थॉम्पसन; अबू धाबी के इंजीलिकल कम्युनिटी चर्च के वरिष्ठ पादरी जेरमी रिने; गुरु नानक दरबार के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह कंधारी और अमीरात के यहूदी समुदाय के अध्यक्ष रॉस क्रिएल शामिल थे। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395302775210

WAM/Hindi