मंगलवार 04 अक्टूबर 2022 - 5:44:56 एएम

यूएई के राष्ट्रपति ने दुबई एक्सपो सिटी में आयोजित होने वाले COP28 जलवायु शिखर सम्मेलन की घोषणा की


अबू धाबी, 22 जून, 2022 (डब्ल्यूएएम) -- राष्ट्रपति His Highness Sheikh Mohamed bin Zayed Al Nahyan के निर्देश के तहत दुबई एक्सपो सिटी में 28वें संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (COP28) की मेजबानी की जाएगी। निर्देश एक अत्याधुनिक गंतव्य के रूप में स्थल के अद्वितीय प्रस्ताव को रेखांकित करता है, जिसने छह महीने के लिए दुनिया को यूएई में साथ लाया। एक्सपो 2020 और COP28 वैश्विक चुनौतियों का सामना करने की दिशा में आवश्यक कदम के रूप में स्थिरता प्राप्त करने और अंतर्राष्ट्रीय कार्रवाई को बढ़ावा देने के समान उद्देश्यों को साझा करते हैं। COP28 प्रमुख स्तंभों पर ध्यान केंद्रित करता है, जिसमें जलवायु प्रतिबद्धताओं व प्रतिज्ञाओं के कार्यान्वयन, समावेशन, ठोस कार्रवाई करने के लिए साथ काम करने और चुनौतियों पर काबू पाने में योगदान देने वाले समाधानों की पहचान करने और वर्तमान व भविष्य की पीढ़ियों के लिए स्थायी भविष्य सुनिश्चित करने के अवसरों का लाभ उठाना शामिल है। COP28 के आयोजन स्थल के रूप में दुबई एक्सपो सिटी का चयन "कनेक्टिंग माइंड्स, क्रिएटिंग द फ्यूचर" के संदेश पर आधारित है और COP28 के लिए यूएई के दृष्टिकोण के अनुरूप अपने उन्नत और सतत बुनियादी ढांचे का प्रदर्शन करते हुए स्थिरता, अवसर और गतिशीलता के विषयों के प्रति प्रतिबद्धता की पुष्टि करता है। सम्मेलन में देश के प्रमुखों, सरकारी अधिकारियों, अंतर्राष्ट्रीय उद्योग के नेताओं, निजी क्षेत्र के प्रतिनिधियों, शिक्षाविदों, विशेषज्ञों और नागरिक समाज संगठनों के प्रतिनिधियों सहित प्रतिदिन 45,000 से अधिक प्रतिभागियों के भाग लेने की उम्मीद है। उपराष्ट्रपति, यूएई के प्रधानमंत्री और दुबई के शासक His Highness Sheikh Mohammed bin Rashid Al Maktoum द्वारा घोषित नया शहर नवाचार और रचनात्मकता के लिए एक वैश्विक केंद्र होगा। यह भविष्य के शहर के लिए एक मॉडल का प्रतिनिधित्व करेगा, जो क्षेत्र और दुनिया की प्रगति में सक्रिय योगदानकर्ता के रूप में यूएई की विरासत को संरक्षित करता है। यूएई का जलवायु कार्रवाई और बहुपक्षीय सहयोग का ट्रैक रिकॉर्ड है। यह इंटरनेशनल रिन्यूएबल एनर्जी एजेंसी (IRENA) के लिए स्थायी मेजबान देश है, जो पेरिस समझौते पर हस्ताक्षर करने और पुष्टि करने वाला क्षेत्र का पहला देश है और उत्सर्जन में अर्थव्यवस्था में व्यापक कमी के लिए इस क्षेत्र में पहला देश है। इसके अलावा यूएई ने जलवायु कार्रवाई और सतत विकास पर ध्यान केंद्रित करते हुए उच्च स्तरीय अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रमों की मेजबानी के लिए खुद को एक विश्व स्तरीय गंतव्य के रूप में भी स्थापित किया है। पिछले 15 सालों में यूएई घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अक्षय और स्वच्छ ऊर्जा निवेश में एक क्षेत्रीय लीडर के रूप में उभरा है। इसने स्वच्छ ऊर्जा में 50 बिलियन डॉलर का निवेश किया है और हाल ही में हाइड्रोजन व अमोनिया सहित अतिरिक्त परियोजनाओं में अगले दशक में 50 बिलियन डॉलर से अधिक निवेश करने की अपनी योजना की घोषणा की है। यूएई दुनिया के तीन सबसे बड़े और सबसे कम लागत वाले सौर संयंत्रों का संचालन करता है और इसने 70 देशों में अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं में निवेश किया है। इन निवेशों में 27 द्वीप देशों को 1 बिलियन डॉलर से अधिक का अनुदान और ऋण शामिल है, जो संसाधन-तनावग्रस्त हैं और विशेष रूप से जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के प्रति संवेदनशील हैं। यूएई एक नए कम उत्सर्जन वाले आर्थिक विकास मॉडल के निर्माण के लिए एक प्रमुख चालक के रूप में प्रभावी और अभिनव जलवायु कार्रवाई का लाभ उठाता है, जो स्थिरता पर आधारित है। COP28 महत्वपूर्ण महत्व के क्षण का प्रतिनिधित्व करता है। दुनिया पेरिस समझौते के बाद से प्रगति को अधिकतम करना चाहती है। भविष्य में राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान को परिभाषित करने के अलावा सम्मेलन पेरिस समझौते के तहत जलवायु कार्रवाई के लिए एक महत्वपूर्ण स्टॉकटेकिंग क्षण का गवाह बनेगा। नवंबर 2022 में मिस्र द्वारा COP27 की मेजबानी के साथ यूएई जलवायु कार्रवाई में वैश्विक प्रगति में तेजी लाने और जलवायु परिवर्तन को अपनाने के लिए मेजबान सरकार के साथ मिलकर काम करने के लिए प्रतिबद्ध है। जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन 1992 में ब्राजील में शुरू किया गया था। अनुवाद - एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395303059702

WAM/Hindi